पोस्ट

अक्तूबर, 2015 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

परिरोध

एक परी थी हाथ नहीं थे उसके, पर थे हलकी थी, हड्डियां खोखली थीं पर उड़ान, उड़ान नहीं थी पंख फैलाए, तैरती हवा पर हर पल थोडा नीचे उतरती उतरती जाती, उतर जाती. परी थी, पर आधी मानस गंध थी उसमें. एकांत परिरोध.