पोस्ट

फ़रवरी, 2014 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

काँव-काँव

मेरा कॉलर पसीने से तर था बीच बीच में एक आध बूँद पीठ पर लुढ़क पड़ती गरम हवा भी गीले बनियान में ठंडी लगती एक कौवा तार पर आ बैठा एकदम काला, एक-सा, रात-सा ग्लॉसी फिनिश थी उसकी कर्कश आवाज दी उसने मैं आगे चल दिया.