पोस्ट

अगस्त, 2015 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

शांखा

मैच जीत कर चहकते-फुदकते बच्चों सी बूँदें फ्रेंच विंडो से झांकते हम. सफ़ेद शंख का कंगन सब कुछ धुला-धुला. किसी और कहानी से धूल भरी लाल आंधी चली आई बारिश से ठीक पहले. फिर बरसा काला पानी जो भी भीगा, कालिख में नहा गया.

कैनवस

कुछ रंग भरे थे आसमान में चुपके से वह चाँद चुरा ले गई।