पोस्ट

जुलाई, 2010 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

आप्लावन टैंक

जादुई इस कमरे में मेरी बनाई दुनिया है- एक तस्वीर उस दुनिया की जो बाहर खड़ी है. कभी खिड़की से झांकती है तो कभी किवाड़ खोल अन्दर ही घुस आती है, थोडा बदलना पड़ता है फिर अपनी तस्वीर को थोडा रंगना पड़ता है दुनिया को.

अलगाव

सपना एक ऐसे घर का जहाँ केवल वे आएं जिन्हें मैं बुलाऊं, बड़ा, चोटी पर और मेरा. पूरा हो ही जाता हैं यह सपना, जिसने भी देखा पा लिया. और फिर जुड़ने की कोशिश में तोड़ दिया वह मकान अपने ही सपनों का.

नाटा उत्सव

उदास था वह दिन पर हंस रहे थे हम सब, दिन भर. गर्म चावलों से उठती गंध से खिड़की पर आती धूप के स्वाद से आसमान पर पड़ी दरार पर अटके पड़े ध्रुव पर खुद पर हंस रहे थे हम दिन भर. उदास था वह दिन.

हाला

क्षितिज तक बिछी है सफ़ेद बर्फ की चादर, और चला आ रहा है काली हाला लिए एक दलाल. तलवे दुखाने से बहुत बेहतर है तकियों पर पसर कर प्यास बुझाना.