फुटबॉल

कभी कभी लोग फुटबॉल बन जाते हैं,
चलती गाडी से लुडक कर
टोपीधारी खिलाड़ियों के पांवों तक पहुँच जाते हैं,
उनकी लात खा कर ऊंचा उछलते है
और फिर धम से गिर जाते हैं.
कभी कभी लोग फुटबॉल बन जाते हैं.

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सोफ़िया-३१ / अपराध

पंक्तियाँ - 2