जुराब

बचपन में जब जूता कुछ बड़ा होता था
जुराब भर लेते थे उसमें.
यादें भी कुछ ऐसी ही होती हैं
जूतों में भर लो तो सफ़र आसान कर देती हैं
और जब जूता खोलो, घर भर में भर जाती हैं.

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

सोफ़िया-३१ / अपराध

फिर हरी होंगी

पंक्तियाँ - 2